31.1 C
Delhi
Wednesday, May 22, 2024

जवानों-किसानों को सम्मान देना देशभक्ति: सिसोदिया

इंडियाजवानों-किसानों को सम्मान देना देशभक्ति: सिसोदिया

श्री सिसोदिया ने बजट पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए आज कहा कि उनके लिए दिल्ली की तरक्की देशभक्ति है। नागरिकों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं देने, बच्चों को अच्छी शिक्षा देना, महिला मोहल्ला क्लीनिक बनाना देशभक्ति है।

नयी दिल्ली: दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ‘देशभक्ति बजट’ पर उठे सवालों का जवाब दिया और विपक्ष पर जमकर निशाना साधा।

दिल्ली विधानसभा ने दिल्ली का देशभक्ति बजट चर्चा के बाद पास कर दिया।

श्री सिसोदिया ने बजट पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए आज कहा कि उनके लिए दिल्ली की तरक्की देशभक्ति है।
नागरिकों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं देने, बच्चों को अच्छी शिक्षा देना, महिला मोहल्ला क्लीनिक बनाना देशभक्ति है।
हमारे लिए तिरंगा लहराना और तिरंगे के साये में खड़े हर भारतीय को मान-सम्मान देना देशभक्ति है।

युवाओं को रोजगार देने, व्यापारियों को व्यापार के मौक़े देना देशभक्ति है।

हमारे लिए जवानों और किसानों को सम्मान देना देशभक्ति है।

श्री सिसोदिया ने सदन में विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्ष देशभक्ति की झूठी बात करके अन्य राज्यों में सत्ता तक तो पहुंच सकती है लेकिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस के सपनों तक नहीं।

उन्होंने कहा कि भाजपा पिछले 15 सालों से दिल्ली एमसीडी में सत्ता में है लेकिन यह विडंबना है कि दिल्ली एमसीडी विद्यालयों में पढ़ने वाले बहुत से विद्यार्थी अपनी किताबों को भी नहीं पढ़ पाते है, ये विपक्ष की मिलावटी देशभक्ति है जो सेना के जवानों की शहादत पर क्रेडिट लेने के लिए सबसे आगे खड़े होते है लेकिन उन्हें अच्छी सुविधाएं देने में पीछे।

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने दिल्ली के सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों को विदेशों में प्रशिक्षण देकर उन्हें मजबूत बनाया है लेकिन विपक्ष ने शिक्षकों को हमेशा मजबूर बनाने का काम किया है।

उन्होंने कहा कि विपक्ष ने देशभक्ति और राम के नाम पर हमेशा सिर्फ़ राजनीति करने का काम किया है लेकिन अब ऐसा नहीं चलेगा हमारे दिल में राम और बगल में संविधान है और संविधान के साथ हम दिल्ली में रामराज्य लाएंगे।

उन्होंने कहा कि सदन के सामने विज़न रखते हुए कहा कि आज एक आम भारतीय परिवार ये सपना देखता है कि वह अपने बच्चों को उच्च शिक्षा देने के लिए अमेरिका, ब्रिटेन, जापान के किसी यूनिवर्सिटी में भेजे पर हमें अपनी शिक्षा पर इतना काम करना है कि भविष्य में अमेरिका, ब्रिटेन, जापान के परिवारों का ये विज़न हो कि वह अपने बच्चों को शिक्षा देने के लिए दिल्ली के किसी यूनिवर्सिटी में भेजे।

उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जब हमें स्कूलों में थे तो पढ़ाया जाता था कि दुनिया में तीन तरह के देश होते हैं।
विकसित देश, विकासशील देश और अविकसित देश, भारत एक विकासशील देश है।

आज भी स्कूलों में यही पढ़ाया जा रहा है कि भारत एक विकासशील देश है।

इसलिए आज हमें यह तय करना होगा कि हम अच्छी शिक्षा के माध्यम से नागरिकों को अच्छी सुविधाएं देकर भारत को विकसित देश बनाने की शुरुआत करें और ये देशभक्ति बजट इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles