29.1 C
Delhi
Wednesday, April 17, 2024

कोविड इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए 50 हजार करोड़ के ऋण की व्यवस्था

अर्थव्यवस्थाकोविड इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए 50 हजार करोड़ के ऋण की व्यवस्था

आरबीआई के अध्यक्ष ने कोविड इंफ्रास्ट्रक्चर के बारे में बताते हुए कहा कि बैंक टीका, दवा, उपकरणों, ऑक्सीजन और वेंटीलेटर बनाने वाली कंपनियों, इनके आयाताकों, अस्पतालों, नर्सिंग होम और पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं को रेपो दर पर ऋण दे सकेंगे।

नयी दिल्ली: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने कोविड इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी कंपनियों तथा अन्य इकाइयों और कोविड के इलाज के लिए आम लोगों को सस्ता ऋण मुहैया कराने के लिए 50 हजार करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की है जो रेपो दर पर उपलब्ध होगा।

आरबीआई के अध्यक्ष शक्तिकांता दास ने आज एक प्रेस वार्ता में बताया कि बैंक टीका बनाने वाली कंपनियों, दवा बनाने वाली कंपनियों, कोविड के इलाज के लिए जरूरी उपकरणों, ऑक्सीजन और वेंटीलेटर बनाने वाली कंपनियों, इनके आयाताकों, अस्पतालों, नर्सिंग होम और पैथोलॉजी प्रयोगशालाओं को रेपो दर पर ऋण दे सकेंगे।

इनसे जुड़ी लॉजिस्टिक्स सेवा प्रदाताओं के लिए भी यह ऋण उपलब्ध होगा।

इसके अलावा आम लोगों को कोविड के इलाज के लिए भी इसी श्रेणी में ऋण मिलेगा।

यह ऋण ‘प्राथमिकता’ श्रेणी में दिया जायेगा और ऋण चुकता होने या इसकी अवधि समाप्त होने तक इसी श्रेणी में बना रहेगा।

बैंक 31 मार्च 2022 तक यह ऋण दे सकेंगे। इसकी अधिकतम अवधि तीन साल होगी।

Check out our other content

Check out other tags:

Most Popular Articles